चावल चोरी के आरोप में हुई थी बेटे की हत्या, अब टीम इंडिया के पूर्व धाकड़ बल्लेबाज वीरेन्द्र सेहवाग ने मां को भेजा डेढ़ लाख का चेक-virender sehwag extends helping hand of deceased tribal youth mother
Home Ipl 2018 news चावल चोरी के आरोप में हुई थी बेटे की हत्या, अब टीम इंडिया के पूर्व धाकड़ बल्लेबाज वीरेन्द्र सेहवाग ने मां को भेजा डेढ़ लाख का चेक

चावल चोरी के आरोप में हुई थी बेटे की हत्या, अब टीम इंडिया के पूर्व धाकड़ बल्लेबाज वीरेन्द्र सेहवाग ने मां को भेजा डेढ़ लाख का चेक

8 second read
0
1,060

चावल चोरी के आरोप में हुई थी बेटे की हत्या, अब टीम इंडिया के पूर्व धाकड़ बल्लेबाज वीरेन्द्र सेहवाग ने मां को भेजा डेढ़ लाख का चेक

virender sehwag extends helping hand of deceased tribal youth mother

टीम इंडिया के पूर्व धाकड़ बल्लेबाज वीरेन्द्र सेहवाग social मीडिया पर खासे एक्टिव रहते हैं. अपने मजाकिया ट्वीट्स से फैन्स को हंसाने के साथ-साथ सहवाग सामाजिक मुद्दों को लेकर भी ट्वीट करते रहते हैं. सहेवाग अपने ट्वीट्स की वजह से कई बार सहवाग ट्रोल भी हुए हैं और कई बार विवाद का भी सामना करना पड़ा . कुछ दिनों पहले केरल में एक आदिवासी युवक की हत्या को लेकर सहवाग ने एक ट्वीट किया था, जिसके बाद उन्हें काफी आलोचना और ट्रोल का सामना करना पड़ा था – इस घटना पर दुख जताते हुए मुख्यमंत्री पिनाराई विजयन ने फेसबुक पर लिखा था, “सभ्य समाज में ऐसी घटनाओं की कोई जगह नहीं। दोषियों के खिलाफ कड़ी कार्रवाई करेंगे। . अब भारतीय ओपनर ने अपना बड़ा दिल दिखाया है सहवाग ने उसी आदिवासी युवक मधु की मां की आर्थिक मदद की है. सोशल एक्टिविस्ट राहुल ईस्वर ने इस बात कीपुष्टि की है. एएनआई की खबर के मुताबिक, एक्टिविस्ट राहुल ईस्वर ने इस बात पर मुहर लगाई है कि उन्हें पूर्व भारतीय खिलाड़ी वीरेंद्र सहवाग की तरफ से 1.5 लाख रुपए का चेक मिला है. यह 1.5 लाख रुपए का चेक उस आदिवासी युवक की 22 फरवरी को पलक्कड़ जिले में मधु की हत्या कर दी गई थी। उसे चोरी के आरोप में पकड़कर कुछ लोग जंगलअगर खबरों के म्माने तो मधु का दीमागी हालत ठीक नही था चलो देर से ही सही सेहवाग को अपनी गलती का एहाशस हो गया]]>

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Check Also

Uncertain Times: A Guide to Medical Insurance During COVID

Nearly 40 million Americans lost their jobs due to the COVID pandemic. While the personal …